क्या मुझे ऐसे किसी से सच में मिलना चाहिए जिससे मैं ऑनलाइन मिली हूँ?

प्रिय सुश्री टेक, मैं करीब 4 महीनों से Facebook पर हूँ। मैंने ढेर सारे मित्र बना लिए हैं। उनमें से कई ऐसे हैं जिन्हें मैं सच में कभी नहीं मिली। इनमें से एक लड़के से मैं कुछ समय से चैट कर रही हूँ और अब वह मुझसे सच में मिलना चाहता है। वह कहता है कि मैं वाकई सुंदर हूँ और उसे विश्वास है कि हमारी जोड़ी खूब रहेगी। मैं अपने मित्रों को और माता-पिता को बताने से डरती हूँ क्योंकि वे कहेंगे कि ऐसा करना खतरनाक है। लेकिन मुझे लगता है कि मुझे अपना भावी पति मिल गया है और मैं उसे असली दुनिया में ज़रूर मिलना चाहती हूँ! मुझे क्या करना चाहिए?

परेशान लेकिन उत्सुक

प्रिय परेशान लेकिन उत्सुक,

जिस व्यक्ति को आप सिर्फ ऑनलाइन जानती हैं उससे सच में मिलने में खतरा तो है। ऑनलाइन खुद को कुछ और बताना जो सच से बिल्कुल अलग हो कोई मुश्किल काम नहीं है। यह पक्के तौर पर कहा नहीं जा सकता कि जो फ़ोटो और कहानियाँ कोई ऑनलाइन साझा करे वे सच्चे ही हैं।

ऑनलाइन अपनी गोपनीय बातों को जल्दी-जल्दी किसी के साथ साझा करना असली दुनिया में ऐसा करने से ज्यादा सहज लग सकता है। यह मनोभाव आपको धोखा खाने या किसी की इच्छानुसार चलकर अपना नुक्सान करने की ओर ले जा सकता है। ऑनलाइन मिले किसी व्यक्ति के लिए अगर आपके मन में कोमल भावनाएँ पनप चुकी हैं तो वह आपको सच में कहीं एकांत में मिलने के लिए राज़ी करा सकता है जहाँ वह आपका फायदा भी उठा सकता है या किसी और तरीके से आपको नुक्सान पहुँचा सकता है।

यह तो जानी-मानी बात है कि मुफ्त में कुछ भी नहीं मिलता। तो अगर ऑनलाइन कोई आपको कुछ ऐसा देने का वायदा करे जो कल्पना से भी ज़्यादा अच्छा हो या वह आपकी कुछ ज्यादा ही तारीफ करे तो आपको सावधान हो जाना चाहिए। ऐसा व्यक्ति शायद आपसे कुछ हासिल करने के लिए मीठी-मीठी बातें करके आपको फुसला रहा हो। जिस लड़के से आपको लग रहा है कि आपको प्रेम हो गया है, वह सच में कोई बड़ी उम्र का पुरुष भी हो सकता है, जो इंटरनेट के ज़रिए कच्ची उम्र की लड़कियों को फुसलाता हो।

और अगर इन सब बातों के बाद भी आप में किसी से मिलने की चाह तेज़ है तो अपने साथ किसी मित्र को ले जाएँ। कभी भी अकेली न जाएँ। ऐसे व्यक्ति से किसी सार्वजानिक जगह पर मिलें जहाँ आपके आसपास बहुत सारे लोग हों, जो ज़रूरत पड़ने पर आपकी मदद कर सकें। उसके साथ कभी भी किसी गाड़ी या जन यातायात के साधन में सवारी न करें। उसे यह कभी भी न बताएँ कि आप कहाँ रहती हैं। और तब तक उसके साथ एकांत में समय न बिताएँ जब तक आप अपने जान-पहचान वालों से यह पक्के तौर पर न जान लें कि उसने आपको अपनी सही पहचान बताई है, वह ढोंग नहीं कर रहा है और उसके साथ समय बिताने में कोई खतरा नहीं है।

सावधानी बरतें, मैं आपकी शुभचिन्तक हूँ! सुश्री टेक

04 February 2016
Sajan द्वारा अनुवाद किया गया