500 लड़कियों ने अपने सपने साझा किए
हन्नातू उनमें से एक थी…

जब हमने Girl Declaration तैयार किया, तो 14 देशों में 500 से भी अधिक किशोर लड़कियों से परामर्श लिया गया। हन्नातू की कहानी उन अनेक लड़कियों द्वारा सामना की जा चुकी चुनौतियों को दर्शाती है, जिनसे हमने बात की थी…

शिक्षा, स्वास्थ्य और नागरिकता

नाइजीरिया की 12-साल-की लड़की हन्नातू बताती है कि जहाँ उसका परिवार रहता है, वहाँ आसपास कोई भी अस्पताल नहीं है और नज़दीकी अस्पताल तक जाने के लिए परिवहन बहुत महँगा है, जिसके कारण उसके लिए चिकित्सा देखभाल प्राप्त करना मुश्किल हो जाता है।

उसकी अधिकांश बहनों और भाइयों का जन्म घर पर ही हुआ है और इस कारण उनका कोई 'रिकॉर्ड' नहीं है। इसका मतलब यह है कि उनके जन्म प्रमाणपत्र नहीं हैं, क्योंकि उनका परिवार उसे खरीदने में सक्षम नहीं है। जन्म प्रमाणपत्रों के बिना स्कूल में उनका नामांकन नहीं हो सकता।

हन्नातू जैसी लड़कियों की कहानियों ने ही Girl Declaration में स्वास्थ्य और नागरिकता को रूप दिया, जो दुनिया के लीडरों को बताती है कि लड़कियों को आगे बढ़ाने के लिए किन-किन चीज़ों की ज़रूरत है।

लडकियाँ गरीबी में जन्म लिए प्रत्येक बच्चे की भविष्य माता होती हैं। यदि उसके पास स्वस्थ रहने के लिए आवश्यक जानकारी और सेवाएँ हैं वह गरीबी के आरंभ से पूर्व उसे रोक सकती है। यह है लडकियों का प्रभाव। Girl Declaration को पूरा पढ़िए।

20 March 2015
Sajan द्वारा अनुवाद किया गया